Last modified on 9 नवम्बर 2011, at 12:24

एक बार फिर / अनीता अग्रवाल

Shmishra (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:24, 9 नवम्बर 2011 का अवतरण ('एक बार फिर वह सोच रही है अपनी जिंदगी के बारे में झुग्...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

एक बार फिर वह सोच रही है अपनी जिंदगी के बारे में झुग्गी में बर्तन मांजने से सुबह की शुरूआत करती हुई और टूटी खाट की लटकती रस्स्यिों के झूले में रात को करवट बदलने के बीीच जीवित होने का अहसास दिलाने के लिये क्या कुछ है शेष