भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"एक भाषा ख़ुशी की / अदोनिस" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
{{KKAnooditRachna
+
{{KKRachna
 
|रचनाकार=अदोनिस   
 
|रचनाकार=अदोनिस   
 
|संग्रह=
 
|संग्रह=
पंक्ति 15: पंक्ति 15:
 
चाहता हूँ एक भाषा होना ख़ुशी की  
 
चाहता हूँ एक भाषा होना ख़ुशी की  
 
एक अक्षर देह के अंग-प्रत्यंग का  
 
एक अक्षर देह के अंग-प्रत्यंग का  
</poem>
+
 
  
 
'''अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल'''
 
'''अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल'''
 +
</poem>

19:14, 20 दिसम्बर 2017 के समय का अवतरण

आह, नहीं
               मैं नहीं चाहता कि मेरी आँखें तैरें
               उसकी आँखों के अलावा और किसी जगह
               नहीं
               नहीं चाहता कि शुद्ध हो जाए मेरा प्रेम और उसकी मिल्कियत
               नहीं चाहता कोई सम्बन्ध, कोई कुनबा या पहचान
 
चाहता हूँ एक भाषा होना ख़ुशी की
एक अक्षर देह के अंग-प्रत्यंग का


अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल