भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

एक वज़न मेरी पीठ पर / वेरा पावलोवा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:32, 16 जून 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वेरा पावलोवा |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <Poem> ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक वज़न
मेरी पीठ पर
एक रोशनी
मेरी कोख में
कुछ और ठहरो मेरे भीतर
जमा लो जड़ें

जब तुम
सवार होते हो मेरे ऊपर
विजयी और गर्वित महसूस करती हूँ

जैसे बचाए
ले चल रही हूँ तुम्हें
चौतरफ़ा घिरे एक शहर से बाहर ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल