Last modified on 7 जनवरी 2013, at 04:20

एक शहर को छोड़ते हुए-8 / उदय प्रकाश

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:20, 7 जनवरी 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उदयप्रकाश |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> यह ठ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

यह ठीक है
कि बहुत मामूली बहुत
साधारण-सी है यह हमारी लड़ाई
जिसमें जूझ रहे हैं हम
प्राणपन के साथ

और गहरे घावों से भर उठा है हमारा शरीर
हमारी आत्मा

इस विकट लड़ाई को
कोई क्या देखेगा हमारी अपनी आँखों से ?

निकालेंगे एक दिन लेकिन
हम साबुत इस्पात की तरह पानीदार
तपकर इस कठिन आग में से
अगले किसी महासमर के लिए ।