भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ए कान्छा मलाई सुनको तारा खसाइदेऊ न / अम्बर गुरुङ

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:18, 30 जुलाई 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केटी
ए कान्छा मलाई सुनको तारा खसाइदेऊ न
केटा
त्यो तारा मात्र हैन जून पनि झारिदिउँला

केटी
गलगोरु बाँधेर छिटै भेट्न आऊ न
बाटोमा रात पर्ला उज्यालोमै आऊ न
केटा
अँधेरो के हो र मायाप्रीति अघि
पर्खिदेऊ म आउँछु अँध्यारोलाई तोडी

केटी
लौ हिंडी जाऊ त्यहाँ बादल छिनी ल्याउन
बादललाई गाँसेर आँचल बनाइदेऊ न
केटा
लौ हुन्छ बादलको आँचल बनाइदिउँला
छेउछेउमा सुनको जलप लगाइदिउँला