भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"ऐ दिल वो आशिक़ी के / 'अख्तर' शीरानी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='अख्तर' शीरानी }} Category:गज़ल <poeM> ऐ दिल ...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
छो
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
 
वो उम्र क्या हुई वो ज़माने किधर गए
 
वो उम्र क्या हुई वो ज़माने किधर गए
  
वीराँ हैं सहन ओ बाग़ बहारों को क्या हुआ
+
वीराँ हैं सहन--बाग़ बहारों को क्या हुआ
 
वो बुलबुलें कहाँ वो तराने किधर गए
 
वो बुलबुलें कहाँ वो तराने किधर गए
  
पंक्ति 15: पंक्ति 15:
  
 
उजड़े पड़े हैं दश्त ग़ज़ालों पे क्या बनी
 
उजड़े पड़े हैं दश्त ग़ज़ालों पे क्या बनी
सूने हैं कोह-सार दिवाने किधर गए
+
सूने हैं कोहसार दिवाने किधर गए
  
 
वो हिज्र में विसाल की उम्मीद क्या हुई
 
वो हिज्र में विसाल की उम्मीद क्या हुई
 
वो रंज में ख़ुशी के बहाने किधर गए
 
वो रंज में ख़ुशी के बहाने किधर गए
  
दिन रात मय-कदे में गुज़रती थी ज़िन्दगी
+
दिन रात मैकदे में गुज़रती थी ज़िन्दगी
'अख़्तर' वो बे-ख़ुदी के ज़माने किधर गए
+
'अख़्तर' वो बेख़ुदी के ज़माने किधर गए

04:12, 12 अप्रैल 2015 के समय का अवतरण

ऐ दिल वो आशिक़ी के फ़साने किधर गए
वो उम्र क्या हुई वो ज़माने किधर गए

वीराँ हैं सहन-ओ-बाग़ बहारों को क्या हुआ
वो बुलबुलें कहाँ वो तराने किधर गए

है नज्द में सुकूत हवाओं को क्या हुआ
लैलाएँ हैं ख़मोश दिवाने किधर गए

उजड़े पड़े हैं दश्त ग़ज़ालों पे क्या बनी
सूने हैं कोहसार दिवाने किधर गए

वो हिज्र में विसाल की उम्मीद क्या हुई
वो रंज में ख़ुशी के बहाने किधर गए

दिन रात मैकदे में गुज़रती थी ज़िन्दगी
'अख़्तर' वो बेख़ुदी के ज़माने किधर गए