भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कँगना भी बदलूँ, पहुँची भी बदलूँ / मगही

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:01, 28 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मगही |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatMagahiR...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कँगना भी बदलूँ, पहुँची भी बदलूँ, पिया बदल कोई लेवे।
चदरिया न बदलूँ हमर[1] हरिअर[2] चद्दर बुटेदार, चदरिया न बदलूँ॥1॥
झाँझ भी बदलूँ, लरछा[3] भी बदलूँ, पिया बदल कोई लेवे
चदरिया न बदलूँ, हमर हरिअर चद्दर बुटेदार, चदरिया न बदलूँ॥2॥
कंठा भी बदलूँ, हयकल[4] पिया बदल कोई लेवे।
चदरिया न बदलूँ, हमर हरिअर चद्दर बुटेदार, चदरिया न बदलूँ॥3॥

शब्दार्थ
  1. हमारी
  2. हरे रंग की
  3. एक प्रकार का आभूषण
  4. गले में पहना जाने वाला एक आभूषण