भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कथा है कि कोई अंत नहीं / गुन्नार एकिलोफ़" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गुन्नार एकिलोफ़ |संग्रह=मुश्किल से खुली एक खिड...)
 
 
पंक्ति 4: पंक्ति 4:
 
|संग्रह=मुश्किल से खुली एक खिड़की / गुन्नार एकिलोफ़  
 
|संग्रह=मुश्किल से खुली एक खिड़की / गुन्नार एकिलोफ़  
 
}}
 
}}
 
+
{{KKCatKavita}}
 
<Poem>
 
<Poem>
 
कथा है कि कोई अंत नहीं
 
कथा है कि कोई अंत नहीं
पंक्ति 23: पंक्ति 23:
 
और हो जाती हैं भयभीत ।
 
और हो जाती हैं भयभीत ।
  
 
+
'''अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना'''
 
</poem>
 
</poem>

16:12, 13 फ़रवरी 2019 के समय का अवतरण

कथा है कि कोई अंत नहीं
गो अंत से होता है इसका प्रारम्भ
और मनुष्य उसी वृत्त में क़ैद

एक आदमी, एक औरत,
एक बद, एक नेक,
एक माँ, एक पिता,
एक पुत्र, एक भाई,
एक चिड़िया लिए पारखी निगाहें
फुदकती है डाल से डाल
और निहारती है तुम्हें
कौन है चिड़िया ?
तुम्हारी आत्मा
कठिन है चिड़ियों की ज़िन्दगी :
वे तुम पर डालती हैं नज़र
और हो जाती हैं भयभीत ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना