भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कभी फूलों कभी खारों से बचना / अनवर जलालपुरी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:59, 24 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनवर जलालपुरी }} {{KKCatGhazal}} <poem> कभी फूलो...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी फूलों कभी खारों से बचना
सभी मश्कूक़ किरदारों से बचना

हरीफ़ों से भी मिलना गाहे गाहे
जहाँ तक हो सके यारों से बचना

जो मज़हब ओढ़कर बाज़ार निकलें
हमेशा उन अदाकारों से बचना

ग़रीबों में वफ़ा ह उनसे मिलना
मगर बेरहम ज़रदारों से बचना

हसद भी एक बीमारी है प्यारे
हमेशा ऐसे बीमारों से बचना

मिलें नाक़िद करना उनकी इज़्ज़त
मगर अपने परस्तारों से बचना