भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कविता पढ़ना / विजय राही" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=विजय राही |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

12:11, 25 मार्च 2020 के समय का अवतरण

मैं कविताओं को पढ़ता नही

सुनता हूँ

इसलिए पंखा बंद कर देता हूँ

कि कोई भी शोर ना हो ।

मैं कोशिश करता हूँ

कविताओं की आवाज़ मुझ तक पुहंचे

मूल रूप से उसी भाव के साथ

जो वो कहना चाहती है ।

फिर भी कोई ना कोई शोर

होता रहता है इस दरम्यान

पत्नी चाय के लिए लगाती है आवाज

बच्चा आकर रोता है गोद के लिए

बरामदें में करते हैंं कबूतर गूटरगू ।

फिर मैं चाय पीकर

बच्चे को गोद में ले

धीमा पंखा चलाकर

कबूतरों की गूटरगू के साथ

सुनता हूँ कविताएँ ।