भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कवि / सिर्गेय तिमफ़ेइफ़ / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:50, 14 नवम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सिर्गेय तिमफ़ेइफ़ |अनुवादक=अनिल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बार मैंने एक लड़की को देखा
बड़े -बड़े काले जूते पहने थी वह ।
वह जल्दी में थी
और कहीं जा रही थी ।
उसे देखकर मैंने कुछ कहा
और मेरी बात सुनकर वह मुस्कुराने लगी ।

हमारे आसपास चारों तरफ़ इतनी कारें क्यों हैं ?
क्यों है इतना ऊँचा आज़ादी का स्मारक ?
ये सफेद जलयान कहाँ जाता है ?

मेरी प्रेमिका सबसे अच्छी है
और वह इसे बात को जानती है ।
वह अपने होंठ रंगती है
चमकदार रंगों से ।

फव्वारे हमेशा ऊपर की तरफ़ ही
क्यों बरसते हैं
और एक निश्चित ऊँचाई पर पहुँचकर ठहर जाते हैं ?

मुझे डाक-टिकट ख़रीदना है
और ख़रीदनी है एक साइकिल
कहाँ मिलेगा डाक टिकट ?

मूल रूसी भाषा से हिन्दी में अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब यही कविता मूल रूसी भाषा में पढ़िए
             Сергей Тимофеев
                  ПОЭТ

Однажды я видел девушку
в больших чёрных туфлях.
Она шла по улице
и торопилась.
Я сказал ей что-то вслед,
и она улыбнулась.
Зачем вокруг столько машин?
Зачем памятник Свободы
такой высокий?
Куда отплывает белый паром?
Моя девушка лучше всех,
и она это знает.
Она красит губы
яркой помадой.
Но почему фонтаны
постоянно бьют вверх
и достигают предела?
И где купить почтовую марку
с велосипедом?.