भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कहवाँ में रोपबई हरी केबड़ा अहो रामा / मगही" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(New page: {{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=मगही }} <poem> कहवाँ में रोपबई हरी ...)
 
छो
 
पंक्ति 13: पंक्ति 13:
 
पनिए पटयबई हरी केबड़ा अहो रामा  
 
पनिए पटयबई हरी केबड़ा अहो रामा  
 
दूधवे पटयबई बेइलिया अहो रामा।  
 
दूधवे पटयबई बेइलिया अहो रामा।  
काँचे सुते गुथबई हरी केबड़ा अहो रामा  
+
काँचे सूते गुँथबई हरी केबड़ा अहो रामा  
रेसम सुते गुथबई बेइलिया अहो रामा।  
+
रेसम सूते गुँथबई बेइलिया अहो रामा।  
 
के मोरा पेन्हतन हरी केबड़ा अहो रामा  
 
के मोरा पेन्हतन हरी केबड़ा अहो रामा  
 
के मोरा पेन्हतन बेइलिया अहो रामा।  
 
के मोरा पेन्हतन बेइलिया अहो रामा।  
 
भइया मोरा पेन्हतन हरी केबड़ा अहो रामा  
 
भइया मोरा पेन्हतन हरी केबड़ा अहो रामा  
 
सइयाँ मोरा पेन्हतन बेइलिया अहो रामा।
 
सइयाँ मोरा पेन्हतन बेइलिया अहो रामा।

14:07, 31 अगस्त 2009 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कहवाँ में रोपबई हरी केबड़ा अहो रामा
कहवाँ में रोपबई बेइलिया अहो रामा।
नइहरा में रोपबई हरी केबड़ा अहो रामा
ससुरा में रोपबई बेइलिया अहो रामा।
पनिए पटयबई हरी केबड़ा अहो रामा
दूधवे पटयबई बेइलिया अहो रामा।
काँचे सूते गुँथबई हरी केबड़ा अहो रामा
रेसम सूते गुँथबई बेइलिया अहो रामा।
के मोरा पेन्हतन हरी केबड़ा अहो रामा
के मोरा पेन्हतन बेइलिया अहो रामा।
भइया मोरा पेन्हतन हरी केबड़ा अहो रामा
सइयाँ मोरा पेन्हतन बेइलिया अहो रामा।