भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहूँ कोकिलाली, कहूँ कै पुकारैं / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
Himanshu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:01, 29 जून 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=द्विज }}{{KKAnthologyBasant}} {{KKPageNavigation |पीछे=रमैं पच्छिनी सौं सब…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भुजंगप्रयात
(परिपूर्ण ऋतुराज का प्रकाश रूप से वर्णन)

कहूँ कोकिलाली, कहूँ कै पुकारैं । चकोरौ कहूँ सब्द ऊँचे उचारैं ॥
कहूँ चातकी सातकी-भाव लीन्हैं । जकी-सी, चकी-सी, चहूँ चित्त दीन्हैं ॥१९॥