भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कांग्रेस नैया के खिवैत करी भारत मांहि / नाथ कवि

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:41, 18 जनवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाथ कवि |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBrajBhashaRa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कांग्रेस नैया के खिवैत करी भारत मांहि।
शान्ति और अहिंसा कासी स्वयं स्व ले गये॥

अबके तो नेता पर द्रोण व अनुशासनहीन।
स्वारथ के कारण देख ........द्वै है गये॥

जनता में चारो ओर देत ..........फिरै।
मिटेगी गरीबी कहौ कैसे दृकह गये॥

साम्यबाद पूँजीबाद दोनों ना रहेंगे ‘नाथ’
हमकौं तो गाँधी जी मध्य मार्ग दै गये॥