भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कारो चश्मो / मीरा हिंगोराणी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:39, 1 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मीरा हिंगोराणी |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ॾिसां जे कहिं मेम खे,
पातलु कारो चश्मो।

लॻनि अखियूं बेहद सुहिणयूं,
करे करिशमो कारो चश्मो।

परर्खे सभिनी खेहिकई नज़र सां,
फरकु मिटाए कारो चश्मो।

लॻनि सभई हिकई रंग जा,
जादूगर आ कारो चश्मो।

भञों भितियूं भेदभाव जूं,
इहो सबकु सेखारे चश्मो।