भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काला / संतोष अलेक्स

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:40, 10 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संतोष अलेक्स |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <poem> एक बार सब रंग इ…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक बार
सब रंग इकट्ठे हुए

लाल
नीला
हरा
पीला
सफ़ेद
काला ज़रा देर से आया

पर
इतनी हड़बड़ी में था वह
कि दूसरों से जा टकराया

अब
किसी भी रंग को
पहचान पाना मुश्किल था ।
 
अनुवाद : अनिल जनविजय