भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

किसी का अक्स-ए-बदन था न वो शरारा था / अहमद महफूज़

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:31, 21 मार्च 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अहमद महफूज़ }} {{KKCatGhazal}} <poem> किसी का अक्...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी का अक्स-ए-बदन था न वो शरारा था
तो मैं ने ख़ेमा-ए-शब से किसे पुकारा था

कहाँ किसी को थी फ़ुर्सत फ़ुज़ूल बातों की
तमाम रात वहाँ ज़िक्र बस तुम्हारा था

मकाँ में क्या कोई वहशी हवा दर आई थी
तमाम पैरहन-ए-ख़्वाब पारा पारा था

उसी को बार-ए-दिगर देखना नहीं था मुझे
मैं लौट आया के मंज़र वही दोबारा था

सुबुक-सरी ने गिरानी अजीब की दिल पर
है अब ये बोझ के वो बोझ क्यूँ उतारा था

शब-ए-सियाह सफ़र ये भी राएगाँ तो नहीं
वो क्या हुआ जो मेरे साथ इक सितारा था