Last modified on 23 जुलाई 2019, at 04:11

किस किस से मूँ लड़ाइए, भगती के काल में / मृत्युंजय

किस-किस से मूँ लड़ाइए, भगती के काल में ।
लाइन लगाए खीस काढ़े रहिए हाल में ।

जो बोलोगे फरमाएँगे बकता है कैसा कुफ़्र,
जाबा लगाए बैंक चलिए इन्तकाल में ।

भगतों की ज़िन्दगी बहुत रँगीन है इस वक़्त,
कुछ लाइनों में कट रही कुछ है बवाल में ।

हम सुर्ख़ सब्ज़ हो के चले मैकदे की ओर,
मय तक नहीं मिली, सखी ! आपातकाल में ।