भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कींधौ वह देस में सनेस ही मिलत नाहीं / महेन्द्र मिश्र

Kavita Kosh से
Mani Gupta (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:47, 22 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कींधौ वह देस में सनेस ही मिलत नाहीं
कीधौं प्राण प्यारे वो हमारे कुछ रीस गव।
कीधों वहाँ झींगुर झनकार शब्द करत नाहीं
कीधों दादुर समाज आज सभी गूँग भव।
कीधो मोर कोयल सब मौन व्रत धार लिया
कीधों घटा बिजली की चक दमक भूलि गव।
द्विज महेन्द्र पावस में आवत नहीं प्राणनाथ
मर गए पपीहा कीधों मेघ सभी जूझ गव|