भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कुछ सोच के परवाना महफ़िल में जला होगा / 'हफ़ीज़' बनारसी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:55, 29 नवम्बर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुछ सोच के परवाना महफ़िल में जला होगा
शायद इसी मरने में जीने का मज़ा होगा

गुमराहे-मुहब्बत हूँ पूछो न मेरी मंज़िल
हर नक्शे-क़दम मेरा मंज़िल का पता होगा

कतरा के तो जाते हो दीवाने के रस्ते से
दीवाना लिपट जाए क़दमों से तो क्या होगा

मयखाने से मस्जिद तक मिलते हैं नक़ुशे-पा
या शेख गए होंगे या रिंद गया होगा

फ़रज़ानों का क्या कहना हर बात पर लड़ते हैं
दीवाने से दीवाना शायद ही लड़ा होगा

रिन्दों को 'हफ़ीज़' इतना समझा दे कोई जा कर
आपस में लड़ोगे तुम वायज़ का भला होगा