भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"केकरा सें करौं तकरार कोय नै सुनै छै / रामधारी सिंह 'काव्यतीर्थ'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रामधारी सिंह 'काव्यतीर्थ' |अनुवा...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
|संग्रह=ज्ञान-गिरा / रामधारी सिंह 'काव्यतीर्थ'
 
|संग्रह=ज्ञान-गिरा / रामधारी सिंह 'काव्यतीर्थ'
 
}}
 
}}
{{KKCatBhajan}
+
{{KKCatBhajan}}
 
<poem>
 
<poem>
 
केकरा सें करौं तकरार कोय नै सुनै छै
 
केकरा सें करौं तकरार कोय नै सुनै छै

00:08, 24 सितम्बर 2016 के समय का अवतरण

केकरा सें करौं तकरार कोय नै सुनै छै
दागी सांसद केॅ संसद सेॅ के हटावै छै

बिना पढ़ने परीक्षा देने पासे होय छै
ऊ सब लोगोॅ केॅ नौकरी सेॅ के भगावै छै

वोट खरीदिये केॅ जीतैवाला नेता सेॅ
छेतरोॅ के विकासोॅ केॅ आशा केकरै छै

किसानें खाद बीज बड़ी मंहगोॅ खरीदै छै
उपजला पर अन्नांे के दाम केॅ बढ़ावै छै

पढ़ाय न लिखाय हाजिरी बनावै छै ‘राम’
नेतागिरि करै वाला केॅ के कहै पारै छै