भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कैवेन्टर्स ईस्ट-1 / शीन काफ़ निज़ाम" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम }} {{KKCatNazm}} <poem> '''कैवेन्टर्स ईस्ट उस म...)
 
 
(इसी सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम
 
|रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम
 +
|संग्रह=सायों के साए में / शीन काफ़ निज़ाम
 
}}
 
}}
{{KKCatNazm}}
+
{{KKCatNazm}}
 
<poem>
 
<poem>
 
'''कैवेन्टर्स ईस्ट उस मकान का नाम था जिसमें अज्ञेय जी रहते थे'''
 
'''कैवेन्टर्स ईस्ट उस मकान का नाम था जिसमें अज्ञेय जी रहते थे'''
पंक्ति 12: पंक्ति 13:
 
गुलाब के पौधे
 
गुलाब के पौधे
 
पौधों की क्यारी के कोने पर
 
पौधों की क्यारी के कोने पर
मुआनक़े के मह्‌व
+
मुआनक़े<ref>गले मिलना</ref> के मह्‌व<ref>तल्लीन</ref>
 
नीम के तनावर दरख़्तों पर
 
नीम के तनावर दरख़्तों पर
 
बड़ा-सा घोंसला है
 
बड़ा-सा घोंसला है
पंक्ति 20: पंक्ति 21:
 
फड़फड़ाता है...
 
फड़फड़ाता है...
 
</poem>
 
</poem>
 +
 +
 +
{{KKMeaning}}

13:46, 22 अगस्त 2009 के समय का अवतरण

कैवेन्टर्स ईस्ट उस मकान का नाम था जिसमें अज्ञेय जी रहते थे


लॉन में दूब है
दूब के पार
गुलाब के पौधे
पौधों की क्यारी के कोने पर
मुआनक़े[1] के मह्‌व[2]
नीम के तनावर दरख़्तों पर
बड़ा-सा घोंसला है

लैला की झुकी शाख़ों में
बुलबुल का फँसा पर
फड़फड़ाता है...


शब्दार्थ
  1. गले मिलना
  2. तल्लीन