भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैवेन्टर्स ईस्ट-1 / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:46, 22 अगस्त 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कैवेन्टर्स ईस्ट उस मकान का नाम था जिसमें अज्ञेय जी रहते थे


लॉन में दूब है
दूब के पार
गुलाब के पौधे
पौधों की क्यारी के कोने पर
मुआनक़े[1] के मह्‌व[2]
नीम के तनावर दरख़्तों पर
बड़ा-सा घोंसला है

लैला की झुकी शाख़ों में
बुलबुल का फँसा पर
फड़फड़ाता है...


शब्दार्थ
  1. गले मिलना
  2. तल्लीन