भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया / भोजपुरी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=भोजपुरी }} <poem> कैसे खेले …)
 
 
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKLokRachna
 
{{KKLokRachna
 
|रचनाकार=अज्ञात
 
|रचनाकार=अज्ञात
}}
+
}}{{KKCatBhojpuriRachna}}
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi
 
|भाषा=भोजपुरी
 
|भाषा=भोजपुरी
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
 
<poem>
 
<poem>
 
कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया
 
कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया
बदरिया घेरि आइल ननदी<br>
+
बदरिया घेरि आइल ननदी
  
 
तू तौ जात हौ अकेली
 
तू तौ जात हौ अकेली
 
कौनो संग न सहेली
 
कौनो संग न सहेली
 
गुण्डा रोकि लींहें तोहरी डगरिया
 
गुण्डा रोकि लींहें तोहरी डगरिया
बदरिया घेरि आइल ननदी<br>
+
बदरिया घेरि आइल ननदी
  
 
भौजी बोलेलू तू बोली
 
भौजी बोलेलू तू बोली
 
सुनिके लागल हमरा गोली
 
सुनिके लागल हमरा गोली
 
काहे पड़ल बाड़ू हमरी नगरिया
 
काहे पड़ल बाड़ू हमरी नगरिया
बदरिया घेरि आइल ननदी<br>
+
बदरिया घेरि आइल ननदी
  
 
केतने दामुल फाँसी चढ़िगे
 
केतने दामुल फाँसी चढ़िगे

13:38, 21 सितम्बर 2013 के समय का अवतरण

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

कैसे खेले जइबू सावन में कजरिया
बदरिया घेरि आइल ननदी

तू तौ जात हौ अकेली
कौनो संग न सहेली
गुण्डा रोकि लींहें तोहरी डगरिया
बदरिया घेरि आइल ननदी

भौजी बोलेलू तू बोली
सुनिके लागल हमरा गोली
काहे पड़ल बाड़ू हमरी नगरिया
बदरिया घेरि आइल ननदी

केतने दामुल फाँसी चढ़िगे
केतने गोली खाके मरिगे
केतने पीसत होइहैं जेल में चकरिया
बदरिया घेरि आइल ननदी