भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कैसो च भण्डारी तेरो मलेथ? / गढ़वाली

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:43, 6 सितम्बर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=गढ़वाली }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

‘कैसो च भण्डारी तेरो मलेथ?’

”कैसो च भण्डारी तेरो मलेथ?
देखी भलो ऐन सैवो तेरो मलेथ।“
”ढलकदी[1] कूल[2] मेरा मलेथ
गाँऊ मुड़े को धारो मेरा मलेथ
पालिंगा[3] को बाड़ी मेरा मलेथ
छोलिंग बिजोरा[4] मेरा मलेथ
गांयियों को गुठधार[5] मेरा मलेथ
भैंस्यों का खरक[6] मेरा मलेथ
बैजूका बांदूका[7] लड़का[8] मेरा मलेथ
वैखूका[9] डसक[10] मेरा मलेथ
देखी भलो ऐन सैवो मेरा मलेथ।“

शब्दार्थ
  1. तेज चलती
  2. पानी की नहर
  3. पालक
  4. फल
  5. गांठ
  6. खटक
  7. सुन्दरियाँ
  8. झुंड
  9. मदों के
  10. झुंड