भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कोई कहानी नहीं जो चल रहा है हमारे बीच / अदोनिस" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
{{KKAnooditRachna
+
{{KKRachna
 
|रचनाकार=अदोनिस   
 
|रचनाकार=अदोनिस   
 
|संग्रह=
 
|संग्रह=
पंक्ति 18: पंक्ति 18:
 
फिर कैसे कह सकता हूँ मैं कि  
 
फिर कैसे कह सकता हूँ मैं कि  
 
हमारे प्रेम का गला घोंट दिया है वक़्त के झुर्रीदार हाथों ने   
 
हमारे प्रेम का गला घोंट दिया है वक़्त के झुर्रीदार हाथों ने   
</poem>
+
 
  
 
'''अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल'''
 
'''अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल'''
 +
</poem>

19:15, 20 दिसम्बर 2017 के समय का अवतरण

कैसे कह सकता हूँ कि व्यतीत हो चुका है जो कुछ है हमारे बीच ?

"कोई कहानी नहीं जो चल रहा है हमारे बीच
कोई सेब नहीं किसी इंसान या जिन्न का
किसी मौसम की कोई पहचान नहीं
या कोई जगह
इतिहास होने लायक कोई चीज़ नहीं"
यही कहते हैं
हमारे भीतर के उलट-फेर

फिर कैसे कह सकता हूँ मैं कि
हमारे प्रेम का गला घोंट दिया है वक़्त के झुर्रीदार हाथों ने


अँग्रेज़ी से अनुवाद : मनोज पटेल