भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कोई चारा नहीं दुआ के सिवा / 'हफ़ीज़' जालंधरी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:53, 11 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' जालंधरी }} {{KKCatGhazal}} <poem> कोई चा...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई चारा नहीं दुआ के सिवा
कोई सुनता नहीं खुदा के सिवा

मुझसे क्या हो सका वफ़ा के सिवा
मुझको मिलता भी क्या सजा के सिवा

दिल सभी कुछ ज़बान पर लाया
इक फ़क़त अर्ज़-ए-मुद्दा के सिवा

बरसर-ए-साहिल-ए-मुकाम यहाँ
कौन उभरा है नाखुदा के सिवा

दोस्तों के ये मुक्हाली साना तीर
कुछ नहीं मेरी ही खता के सिवा

ये "हफीज" आह आह पर आखिर
क्या कहे दोस्तों वाह वाह के सिवा