भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

को जी होलो औंणू? / केशव ध्यानी

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:19, 6 सितम्बर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=केशव ध्यानी |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCat...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

‘घुगति-बसूती’ घूरी घुगति डालि म,
उज्यालि मयलि घूरी घुगती डालि म
रीटि-फीरि आई ऋतु,
धड़म बाजी लाठी।
फूलु की फूल्यालि आई,
गिंवड् यूँ की बाटी॥ घुगति बसूती.
डाँडी हैरि डालि मौलि,
रंग-मती बँसूला।
धरती क कंठ आज,
फूलु की हंसुली॥ घुगति बसूती.
पंथ्या धौलू[1] फ्योंलि[2], आरु
लय्या[3] फूशे बुरांस[4]
घुंगटंयालि ठुमकदी आई,
झपन्यालों, हिलाँस॥ घुगति बसूती.
पैत्वल्यों पराज-आज,
कंठ की बडुली।
आज को जी होलु औंणू?
डुलदी च लटुली॥ घुगति बसूती.

शब्दार्थ
  1. पर्वतीय फूल
  2. पर्वतीय फूल
  3. पर्वतीय फूल
  4. पर्वतीय फूल