भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"क्या जुर्म हमारा है बता क्यों नहीं देते / 'हफ़ीज़' बनारसी" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='हफ़ीज़' बनारसी |अनुवादक= |संग्रह= }}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

23:56, 29 नवम्बर 2019 के समय का अवतरण

क्या जुर्म हमारा है बता क्यों नहीं देते
मुजरिम हैं अगर हम तो सजा क्यों नहीं देते
 
तुम को तो बड़ा नाज़-ए-मसीहाई था यारो
बीमार है हर शख्स दवा क्यों नहीं देते

किस दश्त में गुम हो गए अहबाब हमारे
हम कान लगाये हैं सदा क्यों नहीं देते
 
कम ज़र्फ़ हैं जो पी के बहकते हैं सरे-बज़्म
मह्फ़िल से उन्हें आप उठा क्यों नहीं देते

क्यों हाथ में लरज़ा है तुम्हें खौफ़ है किस का
हम हर्फ़े-ग़लत हैं तो मिटा क्यों नहीं देते
 
कुछ लोग अभी इश्क़ में गुस्ताख़ बहुत हैं
आदाब-ए-वफ़ा उनको सिखा क्यों नहीं देते

नग़मा वही नग़मा है उतर जाए जो दिल में
दुनिया को 'हफ़ीज़' आप बता क्यों नहीं देते