भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी / फ़राज़" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अहमद फ़राज़ }} Category:गज़ल क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी<br>...)
 
 
(एक अन्य सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=अहमद फ़राज़
 
|रचनाकार=अहमद फ़राज़
 +
|संग्रह=
 
}}
 
}}
[[Category:गज़ल]]
+
[[Category:ग़ज़ल]]
 +
<poem>
 +
क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी
 +
हँसती हुई रात रो पड़ी थी
  
क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी<br>
+
हम ख़ुद ही हुए तबाह वरना
हँसती हुई रात रो पड़ी थी<br><br>
+
दुनिया को हमारी क्या पड़ी थी
  
हम ख़ुद ही हुए तबाह वरना<br>
+
ये ज़ख़्म हैं उन दिनों की यादें
दुनिया को हमारी क्या पड़ी थी<br><br>
+
जब आप से दोस्ती बड़ी थी
  
ये ज़ख़्म हैं उन दिनों की यादें<br>
+
जाते तो किधर को तेरे वहशी
जब आप से दोस्ती बड़ी थी<br><br>
+
ज़न्जीर-ए-जुनूँ कड़ी पड़ी थी
  
जाते तो किधर को तेरे वहशी<br>
+
ग़म थे कि "फ़राज़" आँधियाँ थी
ज़न्जीर-ए-जुनूँ कड़ी पड़ी थी<br><br>
+
दिल था कि "फ़राज़" पन्खुदई थी
 
+
</poem>
ग़म थे कि "फ़राज़" आँधियाँ थी<br>
+
दिल था कि "फ़राज़" पन्खुदई थी<br><br>
+

20:18, 8 नवम्बर 2009 के समय का अवतरण

क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी
हँसती हुई रात रो पड़ी थी

हम ख़ुद ही हुए तबाह वरना
दुनिया को हमारी क्या पड़ी थी

ये ज़ख़्म हैं उन दिनों की यादें
जब आप से दोस्ती बड़ी थी

जाते तो किधर को तेरे वहशी
ज़न्जीर-ए-जुनूँ कड़ी पड़ी थी

ग़म थे कि "फ़राज़" आँधियाँ थी
दिल था कि "फ़राज़" पन्खुदई थी