Last modified on 5 जून 2007, at 17:53

क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी / फ़राज़

Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:53, 5 जून 2007 का अवतरण (New page: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अहमद फ़राज़ }} Category:गज़ल क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी<br>...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

क्या रुख़्सत-ए-यार की घड़ी थी
हँसती हुई रात रो पड़ी थी

हम ख़ुद ही हुए तबाह वरना
दुनिया को हमारी क्या पड़ी थी

ये ज़ख़्म हैं उन दिनों की यादें
जब आप से दोस्ती बड़ी थी

जाते तो किधर को तेरे वहशी
ज़न्जीर-ए-जुनूँ कड़ी पड़ी थी

ग़म थे कि "फ़राज़" आँधियाँ थी
दिल था कि "फ़राज़" पन्खुदई थी