भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या ही मजे से बजती है घनश्याम की बंसी / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:02, 13 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=बिन्दु जी |अनुवादक= |संग्रह=मोहन म...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या ही मजे से बजती है घनश्याम की बंसी।
मोहन बजा दो फिर वही विश्राम की बंसी।
बंसी की मधुरता का मज़ा मिलता है मुझको,
जिस वक्त बजाता हूँ तेरे नाम की बंसी।
अधरों पै उसे रखके बजाते थे जिधर तुम,
बजती थी उधर प्रेम के पैगाम की बंसी।
उस बाँस की बंसी की कशिश का था ये दावा,
आशिक थी बेशुमार तने चाम की बंसी।
बंसी को बजाते हुए दृग ‘बिन्दु’ में तुम हो;
जब बजने लगी आख़िरी अंजाम की बंसी।