भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या हुआ हुस्न है हमसफ़र या नहीं / ख़ुमार बाराबंकवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यदि इस वीडियो के साथ कोई समस्या है तो
कृपया kavitakosh AT gmail.com पर सूचना दें


क्या हुआ हुस्न है हमसफ़र या नहीं
इश्क़ मंज़िल ही मंज़िल है रस्ता नहीं

ग़म छुपाने से छुप जाए ऐसा नहीं
बेख़बर तूने आईना देखा नहीं

दो परिंदे उड़े आँख नम हो गई
आज समझा के मैं तुझको भूला नहीं

अहले-मंज़िल अभी से न मुझ पर हँसो
पाँव टूटे हैं दिल मेरा टूटा नहीं

तर्के-मय को अभी दिन ही कितने हुए
और कुछ कहा मय को ज़ाहिद तो अच्छा नहीं

छोड़ भी दे अब मेरा साथ ऐ ज़िन्दगी
है नदामत मुझे तुझसे शिकवा नहीं

तूने तौबा तो कर ली मगर ऐ 'ख़ुमार'
तुझको रहमत पर शायद भरोसा नहीं