भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्षतिपूर्ति / होदा एल्बन

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:30, 26 सितम्बर 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKAnooditRachna |रचनाकार=होदा एल्बन |संग्रह= }} Category:अरबी भाषा <Poem> जब भी ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: होदा एल्बन  » क्षतिपूर्ति

जब भी
सर्द सड़कें पसरने लगती हैं
मेरे सामने

और चुकने लगती है
मेरी रज़ाई की तपिश
मैं निकालती हूँ
उसे अपनी स्मृतियों की तिजोरी से

और
लौ जला देती हूँ उसमें
कोमलता की तीली से...


अंग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र