भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"खड़ी बोली लोकगीत" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi}}
 
{{KKLokGeetBhaashaSoochi}}
<sort order="asc" class="ul">
 
* [[मेरी पसली में दरद हुया री मेरी माँ / खड़ी बोली]]
 
 
* [[कित रै गये थे पिया रात ने / खड़ी बोली]]
 
* [[कित रै गये थे पिया रात ने / खड़ी बोली]]
 
* [[बारह बरस में री जोगी आयो रे / खड़ी बोली]]
 
* [[बारह बरस में री जोगी आयो रे / खड़ी बोली]]
पंक्ति 45: पंक्ति 43:
 
* [[कोऊ दिन उठ गयो मेरा हाथ / खड़ी बोली]]
 
* [[कोऊ दिन उठ गयो मेरा हाथ / खड़ी बोली]]
 
* [[माई री मैं टोना करिहों / खड़ी बोली]]
 
* [[माई री मैं टोना करिहों / खड़ी बोली]]
</sort>
 

03:52, 11 सितम्बर 2016 के समय का अवतरण