Last modified on 28 जुलाई 2009, at 12:17

ख़राब होती न यूँ ख़ाके-शमा-ओ-परवाना / सीमाब अकबराबादी

 

खराब होती न यूँ ख़ाके-शमा-ओ-परवाना।
नहीं कुछ और तो इनसान ही बना करते॥

मिजाज़े-इश्क में होता अगर सलीक़ये-नाज़।
तो आज इसके क़दम पर भी सर झुका करते॥

यह क्या किया कि चले आये मुद्दआ बनकर।
हम आज हौसलये-तर्के-मुद्दआ करते॥

कोई ये शिकवा-सरायाने-ज़ौर[1] से पूछे।
वफ़ा भी हुस्न ही करता तो आप क्या करते?

ग़ज़ल ही कह ली सुनाने को हश्र में ‘सीमाब’।
पडे़-पडे़ यूँ ही तनहा लहद[2] में क्या करते?


शब्दार्थ
  1. अत्याचारों की शिकायत करनेवालों
  2. क़ब्र