भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ख़ुदी में डूबने वालों / इक़बाल

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:18, 17 सितम्बर 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=इक़बाल }} {{KKCatNazm}} <poem> जहाने-ताज़ा<ref>नये संसार</ref> की अ…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 

जहाने-ताज़ा[1] की अफ़कारे-ताज़ा[2] से है नमूद
कि संगो-ख़िश्त[3] से होते नहीं जहाँ पैदा

ख़ुदी में डूबने वालों के अज़्मो-हिम्मत[4] ने
इस आबे-जू[5]से किए बह्रे-बेकराँ[6]पैदा
 

 

शब्दार्थ
  1. नये संसार
  2. ताज़ा चिंतन
  3. ईंट-पत्थर
  4. हिम्मत और इरादे
  5. नहर
  6. असीम समुद्र