भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"ख़ुद से भी उलझा तो होगा / शीन काफ़ निज़ाम" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 2: पंक्ति 2:
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
 
|रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम
 
|रचनाकार=शीन काफ़ निज़ाम
|संग्रह=सायों के साए में / शीन काफ़ निज़ाम  
+
|संग्रह=सायों के साए में / शीन काफ़ निज़ाम;रास्ता ये कहीं नही जाता  / शीन काफ़ निज़ाम 
 
}}
 
}}
 
{{KKCatGhazal‎}}‎
 
{{KKCatGhazal‎}}‎

12:48, 15 दिसम्बर 2010 के समय का अवतरण

ख़ुद से भी उलझा तो होगा
वो तन्हा होता तो होगा

मुझ से लड़ कर जाने वाला
अब ख़ुद से लड़ता तो होगा

तन्हा पा कर के यादों ने
उस को भी घेरा तो होगा

भूला बिसरा कोई लम्हा
अब भी याद आता तो होगा

आईने के सामने उसका
चेहरा धुन्धलाया तो होगा

धूप में जलते बामो-दर को
हसरत से तकता तो होगा

पहली बारिश के बादल ने
ख़त उस को लिक्खा तो होगा

बादल की तहरीरें पढ़ कर
दिल उस का धड़का तो होगा

ख़ुद अपने से छिप कर उस ने
मुझ को भी सोचा तो होगा

महफ़िल-महफ़िल बैठने वाला
घर जा कर रोता तो होगा

छोटे-छोटे से वक़्फों में
अपना मुँह धोता तो होगा

भेजा नहीं ये सच है लेकिन
उस ने ख़त लिक्खा तो होगा