भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ख़ुश्बू भरे बदन वो, गुलाबों के खो गए / श्रद्धा जैन