भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुदा से हश्र में काफ़िर! तेरी फ़रियाद क्या करते? / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
चंद्र मौलेश्वर (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:25, 29 जुलाई 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सीमाब अकबराबादी |संग्रह= }} <poem> ख़ुदा से हश्र में ...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ख़ुदा से हश्र में काफ़िर! तेरी फ़रियाद क्या करते?
अक़ीदत उम्र भर की दफ़अतन बरबाद क्या करते?

क़फ़स क्या, हमने बुनियादे-क़फ़स को भी हिला डाला।
तकल्लुफ़ बरबिनाये-फ़ितरते आज़ाद क्या करते॥

बहुत मुहताज रहकर लुत्फ़ उठाए उम्रेफ़ानी के।
ज़रा-सी ज़िन्दगी जी खोलकर बरबाद क्या करते॥

शबेग़म आहे-ज़ेरेलब में सब कुछ कह लिया उनसे।
ज़माने को सुनाने के लिए फ़रियाद क्या करते?