भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुलपित / गिरधारी लाल 'कंकाल'

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:18, 6 सितम्बर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गिरधारी लाल 'कंकाल' |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी विचारी तिन जीवन मा
खैरी ही खैरी खैने॥

रात नि खुल्दी घास पाणि कै, तू पुगड़ों[1] मा जान्दी
भूखी-तीसी-थकीं-पितीं, दवफरम घौरउ आन्दी,
रुखा सूखा द्वी गफ्रा[2] खाया, बोणूं फिर चली जान्दी,
घासै-बिठगी, लखड़ा गडोली, ढै ढै मण की लान्दी,

उकलि[3]-उन्दारी[4] कटदी-नपदी
जीवन का दिन गैने॥

जीबन घिसिगे माटे दगड़ी, भाग बिदेसू ही रैगे,
जौंकि कुयेड़ी सैरी मंथा, सौंण बाखदो ऐगे,
ओल पचैन तिन रुड़यूं[5] का, पूसौ देखे फालो,
दिन-द्वफरा भी गैंणा गणन, उज्यलो बेखी कालो,

रैगे लौंकी जिकुड़ि कुयेड़ी,
आंखि भ्वरीं ही रैने॥

कागा बसदा, ब्बल्दी आला, लोलि[6] आग भी भभरान्दी,
रोज ससेंई मौन बुथ्योन्दी, चिट्ठी ही ऊंकी आन्दी,
भुंचे गई तू सोच फिकरमा, जीवन का दिन कम होन्दा,
मोरि नि सकदी, बिग्चि नि सकदी, आख्यूं का खुलदन-च्यूंदा,

सौंजड़या तेरी क्वी परदेसू
क्वी अपड़ा मैतू ऐने॥

शब्दार्थ
  1. खेत
  2. कौर
  3. चढ़ाई
  4. उतार
  5. गर्मियों
  6. बेचारी