भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुली हवा में ज़रा चंद गाम चल तो सही / मेहर गेरा

Kavita Kosh से
Abhishek Amber (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:36, 29 सितम्बर 2018 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=मेहर गेरा |अनुवादक= |संग्रह=लम्हो...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
खुली हवा में ज़रा चंद गाम चल तो सही
तू बामो-दर की हदों से ज़रा निकल तो सही

ये दायरे तेरी नश्वो-नुमा में हाइल हैं
ज़रा तू सोच बदल क़ैद से निकल तो सही

गंवा न जान युंही मंज़िलों के चक्कर में
सफ़र का लुत्फ उठा ज़ाविया बदल तो सही

कहीं वजूद ही मेरा न इसमें खो जाये
बड़ा हुजूम है इस शहर से निकल तो सही

हवा लिबास उड़ाते हुए ये कहती है
क़दम उखड़ने लगे हैं तिरे संभल तो सही।