भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुले द्वार / एल्युआर

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:28, 27 दिसम्बर 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुले द्वार

जीवन बहुत प्यार करने योग्य है
मेरे पास आओ
खेल ही होगा गर तुम्हारे पास आऊँ
ओ परियो गुलदस्ते की
जिसमें फूल रंग बदलते हैं।

(कापिताल द ला दूलर से)

मूल फ़्रांसिसी से अनुवाद : हेमन्त जोशी