भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"खुश हो जाइए, पंडित जी / कुमार वीरेन्द्र" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: खुश हो जाइए, पंडित जी कि अब गिद्ध्‍ नष्‍ट होने को हैं कौवे भी पहले ...)
 
 
(एक अन्य सदस्य द्वारा किया गया बीच का एक अवतरण नहीं दर्शाया गया)
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 +
{{KKGlobal}}
 +
{{KKRachna
 +
|रचनाकार=कुमार वीरेन्द्र
 +
|संग्रह=
 +
}}
 +
<Poem>
 
खुश हो जाइए, पंडित जी
 
खुश हो जाइए, पंडित जी
कि अब गिद्ध्‍ नष्‍ट होने को हैं
+
कि अब गिद्ध नष्‍ट होने को हैं
 
कौवे भी पहले जितने नहीं दिखते
 
कौवे भी पहले जितने नहीं दिखते
 
कम दिखने लगे हैं काग
 
कम दिखने लगे हैं काग
पंक्ति 17: पंक्ति 23:
 
वैसे तो आपके अपनों ने ही गढ़े ये जंजाल
 
वैसे तो आपके अपनों ने ही गढ़े ये जंजाल
 
तो भी चिंतन से ज्‍यादा बेहतर है
 
तो भी चिंतन से ज्‍यादा बेहतर है
चिंतित होना   उससे बेहतर दुखी होना
+
चिंतित होना उससे बेहतर दुखी होना
 
और इन सबसे बेहतर है  सेहत के लिए खुश होना
 
और इन सबसे बेहतर है  सेहत के लिए खुश होना
 
आप खुश हो जाइए पंडित जी
 
आप खुश हो जाइए पंडित जी
पंक्ति 32: पंक्ति 38:
 
खुश हो जाइए पंडित जी, कहना
 
खुश हो जाइए पंडित जी, कहना
 
बहुत बड़ी खुशफहमी है।
 
बहुत बड़ी खुशफहमी है।
 +
</poem>

22:16, 3 मार्च 2009 के समय का अवतरण

खुश हो जाइए, पंडित जी
कि अब गिद्ध नष्‍ट होने को हैं
कौवे भी पहले जितने नहीं दिखते
कम दिखने लगे हैं काग

पंडित जी खुश हो जाइए
कि जब रहेंगे ही नहीं तो आपके जजमानों के छप्‍पर के उपर
कहां से बैठेंगे गिद्ध्‍
इसलिए बचें गृहत्‍याग की आशंका से
कि होत भोर कौओं की कांव-कांव सुन
गरियाने से छुटकारा मिलने को है
और जुड़वे काग देख
मरनी की ख्‍बर पेठाने से
मिलने वाली है मुक्ति

जी, पंडित जी, हो जाइए खुश
वैसे तो आपके अपनों ने ही गढ़े ये जंजाल
तो भी चिंतन से ज्‍यादा बेहतर है
चिंतित होना उससे बेहतर दुखी होना
और इन सबसे बेहतर है सेहत के लिए खुश होना
आप खुश हो जाइए पंडित जी

लेकिन ... लेकिन जब देखता हूं
बिल्‍ली का रास्‍ता काटते
और लोगों को अपना रास्‍ता बदलते या थुकथुकाते
या बकरी के छींकने पर किसी को वापस घर लौटते
कुछ देर रूक फिर बाहर निकलते

लगता है ऐ दुनिया वालों
कि पंडित जी से
इतनी जल्‍दी
खुश हो जाइए पंडित जी, कहना
बहुत बड़ी खुशफहमी है।