भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"खेलूंगी कभी न होली, / सूर्यकांत त्रिपाठी "निराला"" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
}}
 
}}
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 +
{{KKAnthologyHoli}}
 
<poem>
 
<poem>
 
खेलूंगी कभी न होली, (अपूर्ण)
 
खेलूंगी कभी न होली, (अपूर्ण)
  
 
</poem>
 
</poem>

18:49, 15 मार्च 2011 के समय का अवतरण

खेलूंगी कभी न होली, (अपूर्ण)