भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खोली देवा खोली देवा, ए दौड़ पड़दा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:28, 6 सितम्बर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |रचनाकार=अज्ञात }} {{KKLokGeetBhaashaSoochi |भाषा=गढ़वाली }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

वर-पक्ष की ओर से-

खोली देवा खोली देवा, ए दौड़ पड़दा[1]
देखू मैं कन्या को रूप।

कन्या पक्ष का उत्तर-

हमारी कन्या छ गौरी स्वरूप, तुमारो बन्दड़ा श्याम स्वरूप।
केन होय केन होय श्याम स्वरूप,
बन्दड़ा पर लगे जेठ की धूप।

वर-पक्ष की ओर से-

खोली देवा खोली देवा, ए दौड़ पड़दा,
देखूँ मैं कन्या को रूप।

कन्या पक्ष का उत्तर-

हमारी कन्या छ सावित्री स्वरूप,
तुमारो बन्दड़ा, चमार सी कालो।
बन्दड़ा पर लगे, जेठ की धूप।

शब्दार्थ
  1. पर्दा