भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गंगा रे जमुनवाँ के रेतिया / मगही

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:32, 14 जुलाई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=मगही |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatMagahiR...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गंगा रे जमुनवाँ के रेतिया[1] मोतिया उपजायब हे।
गंगा रे जमुनवाँ के रेतिया, सोनवाँ उपजायब हे॥1॥
जब मैं जनतों कवन बरूआ, तुहूँ पंडित होयबऽ हे।
तुहूँ बराम्हन होयबऽ हे।
कंचन थाल भराइ के, सोनवाँ भीखी[2] देयब[3] हे।
मोतिया भीखी देयब हे॥2॥

शब्दार्थ
  1. रेत
  2. भिक्षा। उपनयन के अवसर पर बालक ब्रह्मचारी का वेष धरकर गुरुकुल जाने का स्वाँग रचता है। अध्ययन और गमन के खर्च के लिए आप्त गुरुजनों से एक पात्र में भिक्षा माँगता है। गुरुजन उसके पात्र में रुपये, अशर्फी आदि डालते हैं
  3. दूँगी