भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गरचे तन्नाशज़ यार-ए-जानी है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:55, 7 मार्च 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वली दक्कनी }} {{KKCatGhazal}} <poem> गरचे तन्‍ना...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गरचे तन्‍नाज़ यार-ए-जानी है
माया-ए-ऐश-ए-जाविदानी है

याद करती है ख़त कूँ ज़ुल्‍फ़-ए-सनम
काम हिंदू का बेदबानी है

तुझ सूँ हरगिज़ जुदा न हूँ मिरी जाँ
जब तलक मुझमें ज़िदगानी है

आशना नौनिहाल सूँ होना
समरा-ए-गुलशन-ए-जवानी है

दिल में आया है जब सूँ सर्व-ए-रवाँ
तब सूँ मुझ शे'र में रवानी है

ऐ सिकंदर न ढूँढ आब-ए-हयात
चश्‍मा-ए-ख़िज्र ख़ुशबयानी है

वक़्त मरने के बोलता है पतंग
कि मुहब्‍बत रफ़ीक़-ए-जानी है

गरचे पाबंद-ए-लफ़्ज़ हूँ लेकिन
दिल मिरा आशिक़ी-ए-मा'नी है

ऐ 'वली' फि़क्र-ए-साफ़-ए-साहब-ए-दिल
गोहर-ए-बहर-ए-नुक्‍तादानी है