भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गर्मी के फल / त्रिलोचन

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:02, 26 मार्च 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काली घटा गगन में छाई मंद हुआ भूतल पर ताप
रिमझिम रिमझिम पानी बरसा इधर उधर है उस की छाप॥

पवन झोरता है डालों को टपक रहे हैं जामुन आम
बच्चों, दौड़ो,आम उठाओ, आज जामुनों का क्या काम॥

दीन हीन बच्चे ही जामुन बीन रहे पा कर संकेत
आम समीप गिरे न छुवेंगे भली भाँति है उनको चेत॥

रंग रंग के किस्म किस्म के एक एक भूरूह के नाम
समझ बूझ से रखे गए हैं फल ही पहुँच पाएँगे धाम॥

कच्चे पके आम जैसे हों इनका होता है उपयोग
खाएँ और खिलाएँ सब को अगर बाग् का है संजोग॥

30.10.2002