भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गर्मी / दीनदयाल शर्मा

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:01, 26 मार्च 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तपता सूरज लू चलती है
हम सब की काया जलती है।

गर्मी आग का है तंदूर
इससे कैसे रहेंगे दूर।

मन करता हम कुल्फ़ी खाएँ
कूलर के आगे सो जाएँ।

खेलने को हम हैं मज़बूर
खेलेंगे हम सभी ज़रूर।

पेड़ों की छाया में चलकर
झूला झूल के आएँगे।

फिर चाहे कितनी हो गर्मी
इससे ना घबराएँगे।।